0 Comments
कोरोनावायरस: अमेरिकी सरकार अपने नागरिकों को 74,000 रुपये का चेक वितरित करती है

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अर्थव्यवस्था और नागरिकों को कोरोना की तबाही से बचाने के लिए एक बड़े राहत पैकेज की घोषणा की है। इस योजना के माध्यम से, अमेरिकी श्रमिकों को नकद में भुगतान किया जाएगा।

 

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और ट्रेजरी सचिव स्टीवन मेनुचिन ने अमेरिकी युवाओं को $ 1,000 (लगभग $ 74,000) के चेक भेजने का प्रस्ताव दिया है। इस राहत पैकेज के लिए सरकार को कुल 1 ट्रिलियन डॉलर खर्च करने होंगे। इससे अमेरिकी अर्थव्यवस्था को सीधा फायदा होगा। क्योंकि इसने सैकड़ों अरबों डॉलर का निवेश किया होगा। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार, इस राहत पैकेज से जुड़ी सभी जानकारी अभी तक उपलब्ध नहीं है।

अमेरिकी सेंट्रल बैंक फेडरल रिजर्व ने आर्थिक मंदी के मद्देनजर ब्याज दरों को लगभग शून्य कर दिया है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने 10 से अधिक लोगों को एक साथ नहीं लाने का अनुरोध किया है। उन्होंने लोगों से घर के अंदर रहने और काम करने के लिए कहा है। स्कूल, कार्यालय, बार, रेस्तरां और कई स्टोर देश भर में बंद हैं।
अर्थशास्त्रियों का कहना है कि यह 1930 के दशक में महामंदी से निकलने का सबसे प्रभावी तरीका था। लेकिन ऐसे किसी भी कार्यक्रम के लिए कांग्रेस (संसद) के अनुमोदन की आवश्यकता होती है। रिपब्लिकन और डेमोक्रेटिक दोनों पार्टियों को इसके लिए मिलकर काम करना होगा।

बता दें कि अमेरिका जैसे विकसित देश में बीमारी से मरने वालों की संख्या 105 हो गई है। वहीं, कोरोना वायरस के उपकेंद्र चीन के वुहान में लगातार दूसरे दिन मंगलवार को केवल एक मामले की पुष्टि हुई।

read this article in indian language

koronaavaayaras: amerikee sarakaar apane naagarikon ko 74,000 rupaye ka chek vitarit karatee hai