कोरोनावायरस: जैविक हथियार चीनी विशेषज्ञ ड्रग्स, परीक्षण शुरू होता है

चीन ने कोरोनावायरस वैक्सीन का परीक्षण शुरू कर दिया है। वैक्सीन संयुक्त रूप से चीन के शीर्ष जैविक हथियार विशेषज्ञ और उनकी टीम द्वारा निर्मित है। चीन सरकार ने मंगलवार रात इसके परीक्षण को मंजूरी दे दी। टीकाकरण टीम के प्रमुख चेन वेई ने इसके परीक्षण की घोषणा की है।

 

सीसीटीवी से बात करते हुए, चीन के आधिकारिक प्रसारण चैनल, चेन वेई ने कहा कि यह कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एक प्रभावी वैज्ञानिक उपकरण साबित होने वाला था। यदि चीन ऐसा हथियार बनाने वाला पहला देश है और हमारे पास इसके लिए पेटेंट है, तो यह समझा जा सकता है कि हमारा विज्ञान कितना उन्नत है और हम कितने विशाल हैं। चीन ने कहा है कि वैक्सीन को व्यापक बनाने की तैयारी की जा रही है। एक महीने के कड़े शोध के बाद चीन कोरोना वायरस के टीके की तैयारी करता है। इसके लिए इबोला वैक्सीन का अध्ययन किया गया।

चेन चीन के शीर्ष आनुवंशिक इंजीनियरिंग विशेषज्ञ भी हैं। वह टीकाकरण में माहिर हैं। जब 2003 में SARS को चीन में स्थानांतरित किया गया था, तो इसने एक विशेष स्प्रे बनाया। राज्य मीडिया ने बताया कि चेन वेई द्वारा छिड़काव के कारण लगभग 14,000 चिकित्सा कर्मचारी एसएआरएस की ठोकर से बच गए।

54 वर्षीय चेन चीन की पीपुल्स आर्मी में एक मेजर जनरल भी हैं। मीडिया जानकारी के अनुसार, वह 26 जनवरी से वुहान में कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद टीके की तलाश में थी। चेन वी और उनकी टीम ने अस्थायी टेंट में कोरोना वायरस की पहचान करने के लिए पहली परीक्षण किट विकसित की। चीन की आधिकारिक रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने केवल 30 जनवरी को अधिग्रहण किया।

 

 

read this article in news language

cheen ne koronaavaayaras vaikseen ka pareekshan shuroo kar diya hai. vaikseen sanyukt roop se cheen ke sheersh jaivik hathiyaar visheshagy aur unakee teem dvaara nirmit hai. cheen sarakaar ne mangalavaar raat isake pareekshan ko manjooree de dee. teekaakaran teem ke pramukh chen veee ne isake pareekshan kee ghoshana kee hai. seeseeteevee se baat karate hue, cheen ke aadhikaarik prasaaran chainal, chen veee ne kaha ki yah korona vaayaras se ladane ke lie ek prabhaavee vaigyaanik upakaran saabit hone vaala tha. yadi cheen aisa hathiyaar banaane vaala pahala desh hai aur hamaare paas isake lie petent hai, to yah samajha ja sakata hai ki hamaara vigyaan kitana unnat hai aur ham kitane vishaal hain. cheen ne kaha hai ki vaikseen ko vyaapak banaane kee taiyaaree kee ja rahee hai. ek maheene ke kade shodh ke baad cheen korona vaayaras ke teeke kee taiyaaree karata hai. isake lie ibola vaikseen ka adhyayan kiya gaya. chen cheen ke sheersh aanuvanshik injeeniyaring visheshagy bhee hain. vah teekaakaran mein maahir hain. jab 2003 mein sars ko cheen mein sthaanaantarit kiya gaya tha, to isane ek vishesh spre banaaya. raajy meediya ne bataaya ki chen veee dvaara chhidakaav ke kaaran lagabhag 14,000 chikitsa karmachaaree eseaares kee thokar se bach gae. 54 varsheey chen cheen kee peepuls aarmee mein ek mejar janaral bhee hain. meediya jaanakaaree ke anusaar, vah 26 janavaree se vuhaan mein korona vaayaras ke prakop ke baad teeke kee talaash mein thee. chen vee aur unakee teem ne asthaayee tent mein korona vaayaras kee pahachaan karane ke lie pahalee pareekshan kit vikasit kee. cheen kee aadhikaarik riport ke anusaar, unhonne keval 30 janavaree ko adhigrahan kiya.