[ad_1]

जलंधर, 04 सितम्बर
डिप्टी कमिश्नर पुलिस जालंधर श्री बलकार सिंह ने विवरण फ़ौजदारी संहिता 1973 की धारा 144 के अंतर्गत मिले अधिकारों का प्रयोग करते आदेश जारी किये हैं कि कोई भी होटल /मोटल /गेस्ट हाऊस और सराय आदि के मालिक /प्रबंधक किसी भी व्यक्ति /यात्री को उसकी पहचान किये बिना नहीं ठहराएगें। होटल /मोटल /गेस्ट हाऊस और सराय आदि में ठहरने वाले प्रत्येक व्यक्ति /यात्री का फोटो शिनाख्ती कार्ड, जो समर्थ अधिकारी की तरफ से उसे जारी किया गया हो, की उस व्यक्ति /यात्री की तरफ से स्व -तसदीकशुद्हा फोटो कापी बतौर रिकार्ड रखेगा और व्यक्ति /यात्री का रिकार्ड रजिस्टर पर मेन्टेन करेगा। होटल /मोटल /गेस्ट हाऊस और सराय आदि में ठहरे हुए व्यक्तियों /यात्रियों संबंधी जानकारी तैयार करके रोज़ाना की प्रातःकाल 10 बजे सबंधित मुख्य अधिकारी थाना को भेजेंगे और ठहरे व्यक्तियों /यात्रियों सम्बन्धित रजिस्टर में दर्ज रिकार्ड को हरेक सोमवार को सबंधित मुख्य अफ़सर थाना से तस्दीक करवाउणगे और ज़रूरत पड़ने पर रिकार्ड पुलिस को मुहैया करवाउणगे।
इस के इलावा जब भी कोई विदेशी व्यक्ति किसी होटल /मोटल /गेस्ट हाऊस और स्रावों में ठहरता है तो इस सम्बन्धित सूचना इंचार्ज फौरनरस रजिस्ट्रेशन आफिस, दफ़्तर कमिशनर पुलिस, जालंधर को दी जायेगी। इस के इलावा होटल /मोटल /गेस्ट हाऊस और सरों के कोरीडोर, लिफ़्ट, रिसैपशन, स्वागत काउन्टर और मुख्य प्रवेश दवार पर सी.सी.टी.वी भी कैमरे लगाए जाएंगे। यदि कोई शकी व्यक्ति होटल /मोटल /गेस्ट हाऊस और सराय में ठहरता / है, जो किसी पुलिस केस में अपेक्षित है या किसी होटल /मोटल /गेस्ट हाऊस और सराय में ठहरने /आए व्यक्ति /यात्री को किसी ओर राज्य /जिले की पुलिस की तरफ से गिरफ़्तार किया जाता है तो होटल /मोटल /गेस्ट हाऊस और सरांय का मालिक /प्रबंधक तुरंत इस की सूचना सम्बन्धित थाने /पुलिस कंट्रोल रूम को देने के लिए ज़िम्मेदार होगा।
डिप्टी कमिशनर पुलिस ने एक अन्य आदेश जारी किया, जिसके अंतर्गत मकान मालिक घरों में किरयेदार और पी.जी. मालिक, पी.जी और इस के इलावा आम लोग घरों में नौकर और अन्य कामगार अपने नज़दीक के पंजाब पुलिस के सांझ केंद्र में जानकारी दिए बिना नहीं रखेंगे।
डिप्टी कमिशनर पुलिस ने एक अन्य आदेश के द्वारा पुलिस कमिश्नरेट के इलाको में समूह पटाख़ों के निरमाण /डीलरों को आदेश जारी किया है कि पटाखों के पैकटें पर आवाज़ का लेबल (डैसीबल में) प्रिंट होना जरूरी है।
डिप्टी कमिशनर पुलिस जालंधर की तरफ से एक अन्य आदेश के द्वारा पुलिस कमिशनरेट जालंधर की हद में आते वाहन खडे करने के स्थानों जैसे रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, धार्मिक स्थानों,अस्ताल, भीड़ वाले बाज़ारों और अन्य वाहन पार्क करने के लिए बनें स्थानों आदि के मालिक /प्रबंधक (कंपलैक्स के अंदर या बाहर) पर सी.सी.टी.वी.कैमरे लगाए बिना वाहन पार्किंग नहीं चलाऐंगे। इस बात को यकीनी बनाया जाये कि सी.सी.टी.वी.कैमरे इस तरीके साथ लगाए जाएँ कि जो वाहन पार्किंग के अंदर /बाहर आता -जाता है उस वाहन की नंबर प्लेट और वाहन चलाने वाले व्यक्ति का चेहरा साफ़ नज़र आए और इस संबंधी लगाए गए सी.सी.टी.वी.कैमरे की 45 दिन की रिकार्डिंग की सी.डी.त्यार करने उपरांत हर 15 दिन बाद सिक्योरिटी ब्रांच दफ़्तर पुलिस कमिश्नर जालंधर में जमां करवाई जाये और वाहन पार्क करने वाले वाहन मकान मालिकों का रिकार्ड यदि वाहन एक दिन के लिए खडा करना हो तो रजिस्टर में उसका इंदराज वाहन मालिक का नाम,मोबाईल नंबर, वाहन की किस्म, रजिस्ट्रेशन नंबर, चैसी नंबर,इंजन नंबर, वाहन पार्क करने की तारीख़ और वाहन वापिस लेने की तारीख़ दर्ज करने के इलावा वाहन मालिक के रजिस्टर पर दस्तखत करवाए जाएँ। आदेश में यह भी कहा गया है कि यदि वाहन एक दिन से अधिक समय के लिए खड़ा करना हो तो उस का इंदराज रजिस्टर में उक्त अनुसार करके वाहन मालिक की तरफ से वाहन के रजिस्ट्रेशन और ड्राईविंग लायसैंस की फोटो कापी ले कर बतौर रिकार्ड रखा जाये और इसके इलावा पार्किंग के स्थानों पर काम कर रहे व्यक्तियों की पुलिस वैरीफिकेशन सबंधित जगहों से करवाई जाये।
उपरोक्त यह सभी आदेश 02 नवंबर 2020 तक लागू रहेंगे।

[ad_2]

Source link