[ad_1]

जालंधर, 29 अगस्त जिला प्रशासन सभी व्यापारी प्रतिष्ठानों, उद्योगिक संस्थानों या अन्य स्थानों पर जहां रोजाना 20 से अधिक लोग इकट्ठा होते हैं, वहां कोविड मानिटर लगाने के लिए कहा है, जिससे प्रोटोकॉल की सख्ती से पालना की जा सके और यहाँ आने वाले लोगों की सुरशा के लिए रोजाना इसका पालन किया जाए ।नागरिक और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ मौजूदा स्थिति और कोविड की तैयारियों की समीक्षा करते हुए, जिलाधीश घनश्याम थोरी ने कहा कि कोविड को रोकने के लिए जब तक वैक्सीन नहीं आती तब तक सामाजिक दूरी और मास्क पहनना ही इसको रोकने का उपाय है उन्होंने कहा कि कोविड को कम करने के लिए दिशा-निर्देशों पर कायम रहने सामाजिक दूरी बनाए रखने, बार-बार हाथ धोने और हाथ से किसी वस्तु को संपर्क करने पर सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। उन्होंने कहा कि यदि किसी व्यक्ति या कर्मचारी में कोविड के लक्षण दिखाई देते हैं, तो कोविड मॉनिटर को अधिकारियों या उच्च-अधिकारियों को सूचित किया जाए। उन्होंने कहा कि यह मानिटर शुरू में पहचान और उपचार के लिए प्रशासन की मदद करेगा।उन्होंने कहा कि वायरस को फैलने से रोकने के लिए 75 नए संपर्क ट्रेसिंग टीमें बनाई गई हैं,जिससे जितनी जल्दी हो सके कोविड पाजिटिव आने व्यक्ति के कम से कम 10 संपर्क की ट्रेसिंग की जा सके ।जिलाधीश थोरी ने कहा कि संपर्क कडी को तोड़ने के लिए ,जल्द से जल्द पाजिटिव लोगों के संपर्कों में आने वालों के टैस्ट किये जा रहे है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सुविधाओं को जिले में लगातार बढ़ाया जा रहा है इसके अलावा लैवल- 2 और लैवल- 3 के लिए बैड की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है।जिलाधीश के साथ पुलिस कमिश्नर श्री गुरप्रीत सिंह भुल्लर और सीनियर सुपरडैंट सतिंदर सिंह, जो अपने कार्यलय से वीडियो कानफ्रसिंग से शामिल हुए, ने कहा कि पुलिस विभाग ने कोविड प्रोटोकाल को तोडने वालों के खिलाफ पहले ही अभियान तेज कर दिया है।
इस अवसर पर मुख्य रूप से अतिरिक्त जिलाधीश विशेष सारंगल, एमसी के संयुक्त कमिश्नर हरचरण सिंह, इनायत, पूडा ईओ नवनीत कौर बल और अन्य मौजूद थे।

[ad_2]

Source link