जालंधर कैंट (गुलाटी)। भाजपा मंडल 4 के प्रधान के ऐलान के बाद मिली जुली प्रतिक्रिया सामने आ रही है। मंडल नं 4 में एक बार फिर से एक पूर्व विधायक की मनमर्जी सामने आ रही है । पिछले कई कार्यकाल से इस विधायक ने अपनी मर्जी चलाते हुए कई ऐसे फैसले लिए हैं जिसका खामियाजा उसे स्वंय भी भुगतना पड़ा है और पार्टी को इसका खासा नुकसान भी झेलना पडा है। मंडल मे सीनियर एवं वरिष्ठ नेताओं की कई बार अनदेखी करी गई है। ईमानदार छवि एंव पार्टी की विचारधारा को कई वर्षों से यह वरिष्ठ नेता ने इमरजेन्सी के समय से आगे बढ़ा रहे है।

इस मंडल में प्रधान के चुनाव दौरान ना केवल वरिष्ठ नेताओ को नजरअंदाज किया गया बल्कि युवा कार्यकर्ताओं में भी काफी रोष है। मंडल अध्यक्ष के प्रबल दावेदार यहाँ से एक बहुत वरिष्ठ भाजपा नेता हैं जिनका इलाके में एक खासा रुसूख है और जो पार्टी का ध्वज उस समय से ऊँचा करते हुए आए हैं जब पार्टी नाजुक दौर से गुजर रही थी। सत्रों से मिली जानकारी अनुसार कुछ युवा कार्यकर्ता

पार्टी छोडने की तैयारी में है। अगर ऐसा होता है तो भाजपा को आने वाले चुनावों मे भारी नुकसान उठाना पड सकता है। गौरतलब है कि कुछ समय पहले भी इसी मंडल प्रधान के चुनाव को लेकर गहमागहमी हो चुकी है और तब भी प्रधान पद का चुनाव कुछ समय तक स्थगित कर दिया गया था। इस संबंध मे जब मौजूदा नवनिर्वाचित प्रधान से फोन पर बातचीत करनी चाहिए तो उन्होने कहा कि बैठक में व्यस्त है,जिस कारण उन से बात न हो सकी

The post चहेतों को तरजीह देना पड सकता है भाजपा को महंगा! appeared first on Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News- Encounter India.

Leave a Reply