राजपूत ने पंजाब प्रधान परमबंस सिंह बंटी रोमाना से मिल कर 25 सितंबर को चक्का जाम के सबंध की चर्चा
कपूरथला/चंद्र शेखर कालिया। केंद्र सरकार की तरफ से कृषि विधेयक बिल को लोकसभा और राज्यसभा में पास करने के बाद से देश में किसानों का प्रदर्शन लगातार जारी है। इस बिल के विरोध में ही केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल की तरफ से इस्तीफा दिया गया था, जिसके बाद से अकाली दल भी केंद्र सरकार के खिलाफ अब खुलकर बयान बाजी और प्रदर्शन कर रहा है।इसी बिल को लेकर शिरोमणि अकाली दल की तरफ से 25 सितंबर को चक्का जाम प्रोटेस्ट करने का एलान किया गया है।इसी सबंध में गुरुवार को यूथ अकाली दल का एक प्रतिनधि मंडल कपूरथला से यूथ अकाली दल दोआबा जोन के सीनियर उपप्रधान अवि राजपूत के नेतृत्व में पंजाब प्रधान परमबंस सिंह बंटी रोमाना के साथ दमदमा साहिब पहुंचा जहां यूथ अकाली दल के नेताओ ने पूर्व केन्द्री मंत्री हरसिमरत कोर बादल एवं पार्टी प्रधान सुखबीर सिंह बादल को मिला और कहा किशान के हित के लिए पूर्व केन्द्री मंत्री हरसिमरत कोर बादल द्वारा दी गई कुर्बानी को देश हमेशा याद रखेगा।इस दौरान अवि राजपूत ने पार्टी प्रधान सुखबीर बादल को भरोसा दिलाया की 25 सितंबर को चक्का जाम के सबंध में कपूरथला यूथ अकाली दल बढ़ चढ़ कर भाग लेगा और ज़ोरदार प्रदर्शन करेगा।अवि राजपूत ने कहा कि कृषि विधेयक के लागू होने से केवल किसानों का ही नहीं बल्कि आम लोगों का भी नुक्सान होगा।पंजाब की आर्थिकता पूरी तरह से कृषि के साथ जुड़ी हुई है।खेती के अच्छे-बुरे प्रभाव हर वर्ग पर पड़ते थे।इसलिए खेती बिल सिर्फ किसानी की ही बर्बादी नहीं करेंगे, बल्कि हर वर्ग के हित प्रभावित होंगे।अवि राजपूत ने कहा कि 25 सितंबर के बंद के लिए आढ़ती,मजदूर,किराना व्यापारी,कपड़ा व्यापारी,ट्रांसपोर्टर और अन्य सामाजिक संगठन हिमायत के लिए आगे आकर पंजाब बंद को कामयाब करन में अपनी भूमिका अदा करें।यह आंदोलन केंद्र सरकार यह बिल वापस लेने के लिए मजबूर कर देगा।कहा कृषि विधेयक अकेले किसानों के लिए ही नही बल्कि समूचे देश वासियों के लिए खतरनाक है।उन्होंने बताया कि सूबे के किसान,जमींदार व मजदूर वर्ग कृषि विधेयक के लागू होने के रोष प्रदर्शन तो कर रही है लेकिन केंद्र सरकार उनको देश के बड़े कॉरपोरेट घरानों के गुलाम बनाने की तैयारी में है।केंद्र सरकार की ओर से आम लोगों के बड़े विरोध के बावजूद इन बिलों को मंजूर कर देना सीधे तौर पर आम वर्ग से धोखा है।ऐसा करके मोदी सरकार पहले ही कोरोना काल से बुझे किसान,मजदूर व जमींदार वर्ग के लिए और परेशानियां ला रही है।उन्होंने कहा कि हमारी अकाली दल किसानों के साथ है और खेती विधेयकों का विरोध करते रहेंगे और जरूरत पड़ी तो इस संघर्ष को और तेज कर इंसाफ की मांग करेंगे।इस अवसर पर धीरज नय्यर,राजा सिद्धू, भोलू,बन्नू,मणि,सैंडी,कार्तिक आदि उपस्थित थे

The post कृषि विधेयक के लागू होने से केवल किसानों का ही नहीं बल्कि आम लोगों का भी नुक्सान होगा-अवि राजपूत appeared first on Hindi News, हिंदी समाचार, Samachar, Breaking News- Encounter India.

Leave a Reply